बाइक पर पानी वाला ड्रम बेचते पकड़ा गया युवक, लगा 1.10 लाख रुपये से ज्यादा जुर्माना

ओडिशा में एक बाइक सवार पर ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के लिए एक लाख रुपये से भी ज्यादा का जुर्माना लगाया गया है। पहले तो पुलिस ने उस युवक को बाइक पर पानी वाले ड्रमों को ढोने के लिए पकड़ा था, लेकिन जब उसके कागजातों की तहकीकात शुरू हुई तो जुर्माने की रकम इतनी ज्यादा हो गई, जो उसके लिए बाइक बेचकर भी चुकाना नामुमिकन है। यह घटना दक्षिणी ओडिशा के रायगढ़ा जिले की है, जहां कुछ ही दिन पहले बीजू जनता दल के एक सांसद पर भी पुलिस ने बिना हेलमेट बाइक चलाने के लिए 500 रुपये का जुर्माना लगा दिया था। दरअसल, हाल के दिनों में राज्य सड़क दुर्घटनाओं में मौतों का संख्या में भारी इजाफा हुआ है, इसी के चलते ओडिशा पुलिस ट्रैफिक नियमों को ताक पर रखने वाले वाहन मालिकों पर खूब सख्ती कर रही है।

ओडिशा के रायगढ़ा जिले में ट्रैफिक पुलिस ने एक बाइक सवार को पानी स्टोर करने वाले ड्रम ढोते हुए पकड़ा है। जब पुलिस ने उसके कागजातों की छानबीन शुरू की और जुर्माने की रकम जोड़ना शुरू किया तो यह रकम बढ़कर 1,13,500 रुपये तक पहुंच गई। ट्रैफिक नियमों में एक बाइक पर जुर्माने की रकम इतनी ज्यादा कैसे हो गई यह जानने से पहले उस शख्स के बारे में जान लीजिए। प्रकाश बंजारा नाम का वह युवक मूल रूप से मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के अमरपुरा गांव का रहने वाला है। उसे ओड़िशा के दक्षिणी जिले रायगढ़ा में डीआईबी स्कॉयर के पास पानी के ड्रम ढोते हुए पकड़ा गया। पहले तो ट्रैफिक इंस्पेक्टर जुधिस्टिर लेंका की नजर उसकी बाइक के रजिस्ट्रेशन प्लेट पर पड़ी, जिसपर कोई नंबर था ही नहीं। ऊपर से बंजारा बिना हेलमेट के बाइक चला रहा था। लेकिन, जब उसकी बाइक की बाकी तहकीकात शुरू हुई तो पुलिस वाले भी चक्कर खा गए। क्योंकि, इस मामले में मोटर वाहन कानून के हर नियमों को ताक पर रख दिया गया था।

जब ट्रैफिक पुलिस ने छानबीन शुरू की तो पेपर में अनेकों खामियां नजर आईं। पुलिस ने उसपर जो जुर्माना लगाया है, उसमें बिना रजिस्ट्रेशन के वाहन इस्तेमाल के लिए 5,000 रुपये, बिना ड्राइविंग लाइसेंस के वाहन चलाने के लिए 5,000 रुपये, बिना इंश्योरेंस पेपर के गाड़ी चलाने के लिए 2,000 रुपये और 1,000 रुपया बिना हेलमेट के बाइक चलाने के लिए। लेकिन, बाइक पर सबसे बड़ा यानि 1 लाख रुपये का जुर्माना इसलिए लगया गया है कि डीलर ने बिना रजिस्ट्रेशन नंबर के बाइक बेची थी। जाहिर है कि इतनी बड़ी रकम बंजारा के लिए चुकाना नामुमकिन था, इसलिए उसे रायगढ़ा थाने में ही सीज कर लिया गया है और उसे जुर्माने की रकम भरने को कहा गया है।

बता दें कि ओडिशा परिवहन विभाग के मुताबिक प्रदेश में 2020 में सितंबर और अक्टूबर के बीच सड़क हादसे की वजह से मौतों की संख्या में उसी अवधि में एक साल पहले के मुकाबले 27.5 का इजाफा हुआ है। इसलिए, ट्रैफिक नियमों के पालन में ओडिशा पुलिस काफी सख्त हो गई है। पिछले महीने ही रायगढ़ा में सत्ताधारी पार्टी बीजेडी के एक वार्षिक सम्मेलन के लिए हो रही बाइक रैली में हेलमेट नहीं पहनने के लिए पार्टी के राज्यसभा सांसद एन भास्कर राव पर भी 500 रुपये का जुर्माना लगाया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.