Video; देखिए कैसे पाकिस्तानी बंकरों को भारतीय सेना ने किया तबाह

दिवाली से पहले पाकिस्तान LOC पर भारी गोलाबारी कर रहा है। कुपवाड़ा और उरी के हाजीपीर सेक्टर में पाकिस्तानी फायरिंग में 3 जवान शहीद हो गए हैं, जबकि तीन नागरिकों की भी मौत हुई है। इस बीच खबर है कि भारतीय सैनिकों ने पाकिस्‍तान की इसकी नापाक हरकत का मुंहतोड़ जवाब देते हुए 8 सैनिकों को ढेर कर दिया है।

जानकारी के अनुसार, भारतीय सेना ने पाकिस्तान के बंकरों को भारतीय सेना ने तबाह कर दिया है। इसकी पुष्टि के लिए वीडियोज उपलब्ध कराए गए हैं। वीडियो में दिख रहा है कि भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब देते हुए पाकिस्तान के बंकर तबाह कर दिए हैंं।

सीजफायर के पीछे पाकिस्‍तान का मकसद यह रहता है कि हमारे सैनिकों के ध्‍यान को भटकाया जा सके और ज्‍यादा से ज्‍यादा आतंकवादियों को भारत की सीमा में घुसपैठ करवाया जा सके। सूत्रों ने बताया है कि पाकिस्‍तान की मंशा है कि बर्फबारी से पहले ज्‍यादा संख्‍या में आतंकियों की घुसपैठ कराई जा सके और उसी का नतीजा है कि पाकिस्‍तान की तरफ से एलएसी पर भयंकर फायरिंग की जा रही है।

देखिए कैसे भागते फिरे पाकिस्तानी सैनिक

केरेन सेक्टर में पाकिस्तानी बंकर को इस तरह किया तबाह

इससे पहले अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के गुरेज से उरी सेक्टरों तक नियंत्रण रेखा के किनारे पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा किए गए कई संघर्षविराम उल्लंघनों में तीन भारतीय सैनिक शहीद हो थे। अधिकारियों ने कहा कि उरी में नंबला सेक्टर में पाकिस्तानी गोलीबारी में सेना के दो जवान शहीद हो गए। उन्होंने कहा कि हाजीपीर सेक्टर में एक सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के सब-इंस्पेक्टर भी शहीद हो गया, जबकि एक जवान घायल हो गया।

अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्‍तान की तरफ से रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर की जा रही फायरिंग में बारामुला जिले के उरी क्षेत्र में कमलकोट सेक्टर में दो नागरिकों की मौत हो गई, जबकि उरी के हाजीपीर सेक्टर में बालकोटे क्षेत्र में एक महिला की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि उरी में विभिन्न स्थानों के अलावा, बांदीपुरा जिले के गुरेज़ सेक्टर और कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर में लगातार पाकिस्‍तान की तरफ से फायरिंग की सूचना मिली थी। बीएसएफ अधिकारियों ने कहा कि बारामुला में एलओसी पर बल की आर्टिलरी बैटरी में तैनात 39 वर्षीय सब इंस्पेक्टर राकेश डोभाल दोपहर करीब 1:15 बजे गोलीबारी में घायल होने के बाद शहीद हो गए। वहीं कॉन्स्टेबल वासु राजा भी घायल हो गए थे, लेकिन अब स्थिर हैं। उन्होंने कहा कि वह उसी स्थान पर तैनात था।

राकेश डोभाल उप-अधिकारी उत्तराखंड के ऋषिकेश के निवासी थे और 2004 में सीमा बल में शामिल हुए थे। राकेश डोभाल के परिवार में उनके पिता, पत्नी और 9 साल की बेटी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एलओसी पर बीएसएफ की लगभग सभी इकाइयों में सुबह से ही फायरिंग जारी है और सैनिकों, तोपखाने की रेजिमेंट और सहायक हथियारों के द्वारा पाकिस्‍तान को जवाब दिया जा रहा है। बीएसएफ एलओसी पर सेना के ऑपरेशनल कमांड के तहत काम करता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.