बलौदाबाजार के बहुचर्चित मेवा चोपड़ा धोखाधड़ी प्रकरण में दूसरी बडी गिरफ्तारी

केवरा जगत/बलौदाबाजार-थाना सिटी कोतवाली के अपराध क्रमांक 484,485,486,487/2020 धारा 420, 34 भादवि के फरार आरोपी कुंदन सिंह पाटले जो मामले के मुख्य आरोपी अशोक पांडे उर्फ महेंद्र कुमार तिवारी का नजदीकी मित्र है तथा महेंद्र तिवारी द्वारा कुंदन सिंह पाटले के नाम से बैंक अकाउंट खोलकर खाता एवं एटीएम को अपने पास रखता था तथा नौकरी लगाने के नाम पर लोगों को झांसा देकर लिए गए रकम को कुंदन पाटले के अकाउंट नंबर में डलवा तथा बीच-बीच में लोगों को विश्वास पैदा करने के लिए उनके अकाउंट पर पैसों को वापस कुंदन के खाते से डलवा कर ट्रांजैक्शन करता रहा।

लगाए गए मुखबिर की सूचना पर बीती रात तत्काल स्टॉप भेज कर जिला अनूपपुर के ग्रामीण एरिया में सांस्कृतिक प्रोग्राम में बैंजो बजा रहे आरोपी को योजनाबद्ध तरीके से घेरकर पकड़ कर पूछताछ की गई जिन्होंने आरोपी महेंद्र तिवारी से वर्ष 2016 मे परिचय होना तथा उसके साथ मिलकर अन्य लोगों के साथ छत्तीसगढ़ अंचल के लोगों को नौकरी लगाने के नाम पर छलकर रकम अकाउंट में अर्जित करते थे। जिसमें से महेंद्र तिवारी सभी को हिस्सा देता था तथा खाने-पीने, अय्याशी करने में रकम उड़ाते थे। महंगी महंगी कपड़े एवं समान खरीद देता था जैसे ही बलौदाबाजार में एफआईआर होने की सूचना मिली अपने सभी साथियों के साथ महेंद्र तिवारी अपने वाहन में बिठाकर सभी को बनारस इलाहाबाद चंडीगढ़ और विशाखापट्टनम तथा देश के अन्य जगहों पर घुमाता रहा। लेकिन कुछ दिन पहले बलौदाबाजार पुलिस द्वारा इनके साथी दलबीर परस्ते को अनूपपुर से गिरफ्तार करने के बाद सभी में खलबली मची हुई थी।

लिहाजा महेंद्र तिवारी इनको अनूपपुर में छोड़कर वाहन लेकर बिना बताए भागकर अभी भी फरार है। जिसके लिए मुखबिर लगाई गई है जो बहुत जल्द पुलिस के गिरफ्त में होगा। आरोपी कुंदन सिंह पाटले को कड़ाई से पूछताछ करने पर बताया कि एफआईआर होने के बाद सभी को लेकर महेंद्र तिवारी बनारस ले गया था जहां इसके बैंक खाता एवं एटीएम को एवं दिए गए कीपैड मोबाइल को तोड़कर जलाकर गंगा नदी में फेंक दिया है तथा नौकरी के नाम पर लिए गए रकम एवं लौटाई गई राशि का हिसाब किताब लिखकर दिया था। जिसे पेश कर अपना बचाव करना चाहता था, जिसे पुलिस द्वारा जप्त किया गया है। आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया है।

संपूर्ण कार्यवाही वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन पर थाना प्रभारी विजय चौधरी के नेतृत्व में प्रधान आरक्षक अरशद खान, नीरज दुबे, आरक्षक मुकेश तिवारी का अहम योगदान रहा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.