ग्रैंड चैलेंजेस’ की वार्षिक बैठक में बोले पीएम मोदी, कैसे मिलेगी आम आदमी को कोरोना की वैक्सीन, ये है प्लान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मंगलवार को एक बैठक के दौरान बताया कि किस तरह से देश के आम लोगों को कोरोना का टीका मिल सकेगा, साथ ही इसका पूरा प्लान भी बताया है।
देश में फैल रही कोरोना महामारी को रोकने के लिए इसके टीके का इंतजार देश का हर एक आम आदमी कर रहा है। इसी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मंगलवार को एक बैठक के दौरान बताया कि किस तरह से देश के आम लोगों को कोरोना का टीका मिल सकेगा, साथ ही इसका पूरा प्लान भी बताया है।

ग्रैंड चैलेंजेस’ की वार्षिक बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना संक्रमण का टीका बनाने के मामले में हम थोड़ी सी ही दूरी पर है और इसमें से तो एडवांस स्टेज पर है। उन्होंने साफ कहा कि भारत में काफी हद तक कोरोना पर नियंत्रण पाया गया है। उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना मामलों की संख्या लगातार कम होती दिख रही है।

वहीं दूसरी तरफ ठीक होने वाले की रिकवरी दर 88 फीसदी तक पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि इस वजह से संभव हुआ कि भारत सरकार ने समय रहते लॉकडाउन लगाया। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया और लोगों को कोविड19 के बारे में पूरी जानकारी दी गई। जानकारी के लिए बता दें कि इसी साल 15 अगस्त को लाल किले से प्रधानमंत्री ने देश के हर नागरिक के लिए नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत हेल्थ कार्ड जारी करने का ऐलान किया था। जिसका मकसद देश के हर आदमी को कोरोना वैक्सीन इसी हेल्थ कार्ड के जरिए दी जाएगा।

डिजिटल हेल्थ आईडी कार्ड का इस्तेमाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में डिजिटल हेल्थ कार्ड जारी होने के बाद लोगों को टीका मिल सकेगा। साथ ही भारत पहला ऐसा देश है जो वैक्सीन डिलीवरी सिस्टम पर काम कर रहा है। हेल्थ कार्ड के साथ इस डिजिटल नेटवर्क का हमारे नागरिकों के टीकाकरण को सुनिश्चित करने का काम किया जाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि भारत दुनिया के कई देशों को प्रभावित करता है। उन्होंने कहा कि अमेरिका की तुलना में हमारे देश की जनसंख्या 4 गुना ज्यादा है। अगर अन्य यूरोपीय देशों की बात करें तो वहां के बराबर ही है। ऐसे में भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या बहुत कम है। यहां संक्रमितओं का आंकड़ा बढ़ता दिखता है। लेकिन वहीं दूसरी तरफ रिकवरी दर ज्यादाऔर मृत्यु दर में कमी है। आज, हम प्रति दिन मामलों की संख्या और मामलों की वृद्धि दर में गिरावट देख रहे हैं।

भारत में 88 प्रतिशत की हाइएस्ट रिकवरी रेट है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि भारत में जब कुछ सौ केस थे तब लचीले लॉकडाउन को अपनाने वाले पहले देशों में से हम एक थे। भारत मास्क के उपयोग को प्रोत्साहित करने वाले पहले देशों में से एक था। भारत ने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर काम किया।

कोरोना पर रिपोर्ट

भारत में बीते कुछ दिनों से कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से कमी हो रही है। भारत में प्रतिदिन कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या घट रही है और कोरोना को मात देने वालों को संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। यही वजह है कि देश में एक्टिव मामलों की संख्या अब करीब 7 लाख 48 हजार रह गयी है। बीते 24 घण्टे में देश में कोरोना वायरस के 55 हजार से ज्यादा मामले दर्ज किया गए हैं। जबकि, एक दिन में 579 लोगों की मौत हुई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस के 55,722 नए मामले आये हैं। वहीं 579 लोगों की मौत हुई है। इसी के साथ देश में अब कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 75,90,514 हो गयी है। जिनमें 7,48,903 मामले एक्टिव हैं। जबकि, 67,25,219 मरीज कोरोना वायरस से ठीक हो गए हैं। वहीं एक दिन में 66,339 मरीज ठीक हुए हैं। वहीं, कोरोना के चलते अब तक देश में 1,15,163 लोगों की मौत हो चुकी है

Leave A Reply

Your email address will not be published.