समय पर नहीं दिया खाना, रोटवीलर कुत्तों ने अपने केयरटेकर को ही उतारा मौत के घाट उतारा

तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। दो पालतू रोटवीलर कुत्तों ने अपने देखरेख करने वाले शख्स पर हमला कर मौत के घाट उतार दिया। कुड्डालोर जिले में चिदंबरम के पास एक फार्म हाउस में मंगलवार देर शाम को केयरटेकर के जीवननाथम पालतू शाम में कुत्तों को दूध देने गए थे, तभी कुत्तों ने उन पर हमला कर दिया। जीवननाथम कुत्तों को हर दिन सुबह के समय खाना देते थे, लेकिन वे शाम को उन्हें फीड़िंग कराने के गए थे।

कुड्डलोर में वल्लमपदुगाई गाँव के के जीवननाथम पुडुबेलमेडु में कांग्रेस नेता एन विजयसुंदरम के 10 एकड़ में फैले फार्म हाउस में 2013 से काम कर रहे थे। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, विजयसुंदरम ने तीन साल पहले सुरक्षा बढ़ाने और खेत पर फसलों की सुरक्षा में जीवनमथम की मदद के लिए दो रोटवीलर कुत्ते खरीदे थे। पुलिस ने कहा कि जीवननाथम ने आमतौर पर सुबह फार्म में पहुंचते ही कुत्तों को खाना खिलाया करता था, लेकिन मंगलवार को वह पालतू जानवरों को खाना खिलाने थोड़ी देर से पहुंचा था।

मंगलवार को, हालांकि वह हमेशा की तरह फार्म पर पहुंचे, वह शाम को फार्म छोड़ने से पहले पालतू कुत्तों को खाना देने गया, इसी दौरान कुत्तों ने उस पर हमला कर दिया। इस दौरान जीवननाथम ने भागने की भी कोशिश की, कुत्तों ने पीछा किया और उस पर हमला किया। कुत्तों ने उसके सिर को निशाना बनाया। कुत्तों ने उसके दो कानों को काट दिया और उसके पूरे चेहरे पर हमला किया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

रॉटविलर अपने एग्रेशन के लिए काफी बदनाम है। इसके चलते यूरोप और अमेरिका के कई हिस्सों में रॉटविलर को घर पर पालना बैन है, हालांकि भारत में इस ब्रीड को पालने को लेकर किसी तरह का कोई बैन नहीं है। जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था ‘एनिमल पीपुल’ की एक रिसर्च के मुताबिक पिटबुल दुनिया की सबसे खतरनाक डॉग ब्रीड है। रॉटविलर दूसरे नंबर पर है। ऐसा माना जाता है कि रॉटविलर प्राचीन रोम के ड्रोवर कुत्ते की नस्ल है, जो बीहड़ में रहने वाली बेहद समझदार नस्ल थी। स्पेन, इटली, फ्रांस, पुर्तगाल, रोमानिया, यूक्रेन, रूस और इजरायल जैसे कई देशों और संयुक्त राज्य अमेरिका में कई राज्यों में प्रतिबंधित हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.