उद्धव ठाकरे के गांजे की खेती वाले कमेंट पर भड़कीं कंगना ट्विटर के जरिये साधा निशाना..

मुंबई-बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के उस बयान पर पलटवार किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि हम अपने घरों में तुलसी उगाते हैं, गांजा नहीं. इसके बाद कंगना ने ट्वीट कर उद्धव ठाकरे को जवाब दिया है और कहा कि जनसेवक होकर आप इस तरह के तुच्छ झगड़ों में शामिल हो रहे हैं।

दरअसल, दशहरा भाषण के दौरान उद्धव ठाकरे ने किसी का नाम लिए बिना कहा था कि कुछ लोग मुंबई रोजी-रोटी के लिए आते हैं और इसे पीओके कहते हैं. यहां हर जगह ड्रग्स लेने वाले लोग हैं, वे कुछ इस तरह की तस्वीर बनाना चाहते हैं. वे नहीं जानते हैं कि हम अपने घरों में तुलसी उगाते हैं, गांजा नहीं. गांजे के खेत आपके राज्य में है, आप जानते हो कहां, महाराष्ट्र में नहीं।

कंगना के किए कई ट्वीट इसके बाद कंगना का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने ट्वीट्स की झड़ी लगा दी. कंगना ने लिखा, ‘मुख्यमंत्री आप बहुत ही तुच्छ व्यक्ति हैं. हिमाचल को देव भूमि कहा जाता है. यहां बहुत ज्यादा मंदिर हैं और हिमाचल में क्राइम रेट शून्य है. हां, यहां की जमीन बहुत उपजाऊ है और यहां सेब, कीवी, अनार और स्ट्रॉबेरी कुछ भी उगा सकते हैं।

उन्होंने आगे लिखा, ‘आप एक ऐसे नेता हैं, जिसका नजरिया एक ऐसे राज्य को लेकर तामसिक, अदूरदर्शी और कम जानकारी वाला है, जो भगवान शिव और मां पार्वती का निवास स्थान होने के साथ-साथ यां मार्केंडेय, मनु ऋषि कई महान संत रह चुके हैं और पांडवों ने निर्वासन के लंबा समय हिमाचल प्रदेश में बिताया था।

शक्ति का कर रहे हैं गलत इस्तेमाल’ कंगना ने अगले ट्वीट में कहा, ‘आपको खुद पर शर्म आनी चाहिए मुख्यमंत्री जी. जनसेवक होकर आप इस तरह के तुच्छ झगड़ों में शामिल हो रहे हैं. आप अपनी शक्ति का इस्तेमाल उन लोगों का अपमान करन और क्षति पहुंचाने में कर रहे हैं, जो आपसे सहमत नहीं हैं. आप उस कुर्सी के लायक नहीं हैं, जिसे आपने गंदी राजनीति कर हासिल किया है. शर्म आनी चाहिए।

कंगना ने लगाया देश का बांटने का आरोप कंगना यहीं नहीं रुकीं और आगे लिखा, ‘कार्यसेवा में मौजूद एक मुख्यमंत्री का जुर्रत देखिए, जो देश का बांटने की कोशिश कर रहे हैं, जिन्होंने खुद को महाराष्ट्र का ठेकेदार बना लिया है? वे सिर्फ एक जनसेवक हैं, उनसे पहले वहां कोई और था और जल्द ही कोई और राज्य की सेवा के लिए आएगा. वह ऐसा क्यों व्यवहार कर रहे हैं, जैसे वे महाराष्ट्र के मालिक हैं।

मुंबई से सबको अवसर मिलता है’ उन्होंने आगे कहा, ‘जिस तरह हिमालय की सुंदरता हर भारतीय की है, वैसे ही मुंबई जो अवसर देता है, वह हम में से हर एक के लिए है, दोनों मेरे घर हैं. उद्धव ठाकरे, आप हमारे लोकतांत्रिक अधिकार छीनने और हमें बांटने की कोशिश ना करें. आपके गंदे भाषण आपकी अक्षमता का एक अश्लील प्रदर्शन हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.