तुरंत करा लें आधारकार्ड को मोबाइल से लिंक, इस तारीख को पड़ने वाली है जरूरत

भारत अब कोरोना से लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है. देश भर में 16 जनवरी से कोविड वैक्सीनेशन शुरू होने वाला है. लेकिन आपको एक चीज का ध्यान रखना बेहद जरूरी है. हर महत्वपूर्ण मामले की तरह कोरोना से लड़ने के दौरान भी आपका आधार कार्ड एक अहम भूमिका निभाएगा. इसलिए ध्यान रहे, अगर आपका आधार कार्ड आपके मोबाइल नंबर से लिंक्ड नहीं है तो परेशानी हो सकती है. क्योंकि कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़ी हर जानाकारी आधार कार्ड से लिंक नंबर पर ही दी जाएगी।

बिना लिंक किए नहीं हो पाएगा रजिस्ट्रेशन सरकार ने वैक्सीनेशन ड्राइव के लिए सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को निर्देश जारी किया है। जारी निर्देश में सरकार ने आधार कार्ड को मोबाइल नंबर से लिंक करना बेहद जरूरी बताया है. इसका मतलब है कि अगर आप कोरोना वैक्सीन लगवाने जाते हैं, तो मोबाइल नंबर का आधार कार्ड से लिंक होना अनिवार्य होगा. इसके बाद ही वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन किया जा सकेगा।

पहले ही लिंक्ड है तो न हों परेशान सरकार ने सभी राज्यों को निर्देश दिया है कि लोगों को आधार-मोबाइल नंबर लिंक करने के लिए सूचित करें, जिससे टीकाकरण से जुड़ी सूचनाएं भेजने में आसानी हो. हालांकि अगर आपका आधार कार्ड पहले ही मोबाइल नंबर से लिंक्ड है, तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है. इसे दोबारा नहीं कराना पड़ेगा।

यूनीक हेल्थ आईडी के होंगे ये फायदे गौरलतब है कि, एक बार यूनीक हेल्‍थ आईडी जनरेट हो गया तो आपके हेल्‍थ रिकॉर्ड्स ऑनलाइन दर्ज हो जाएंगे. इसके बाद अपने इलाज के लिए आपको फाइल्स या डॉक्यूमेंट्स लेकर इधर-उधर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. डॉक्टर को सिर्फ अपना यूनीक हेल्‍थ आईडी कार्ड दिखाएंगे और आपके स्वास्थ्य से जुड़ी सारी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध हो जाएगी।

रजिस्ट्रेशन के लिए भी जरूरी आईडी कार्ड अगर आप कोरोना वैक्सीन लगवाना चाहते हैं तो इसके लिए रजिस्ट्रेशन होगा. इसके लिए फोटो पहचान पत्र जरूरी होगा. टीकाकरण के लिए पंजीकरण के बाद ही स्थान और समय की जानकारी का एसएमएस से आपको मिलेगी. वैक्सीन की पहली डोज के 14 दिन बाद दूसरी डोज लगेगी. कुल 28 दिन तक व्यक्ति की मॉनिटरिंग होगी. वैक्सीन लगने के बाद लाभार्थी को उसके मोबाइल नंबर पर एक क्यूआर कोड आधारित प्रमाण पत्र भी भेजा जाएगा।

फोटो प्रमाण पत्र जरूरी रजिस्ट्रेशन और वैक्सीन लगवाने के समय आपको पहचान पत्र के तौर पर आप आधार कार्ड, ड्राइविग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड, पैनकार्ड, पासपोर्ट, जॉबकार्ड, पेंशन रिकॉर्ड, मनरेगा कार्ड, स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, बैंक या पोस्ट ऑफिस पासबुक, केंद्र या राज्य सरकार या फिर पब्लिक लिमिटेड द्वारा जारी सेवा आईकार्ड में से किसी एक को दिखाना होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.