कल से कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान शुरू अभियान में हम सभी की भूमिका अहम: कलेक्टर

भूपेश मांझी/महासमुंद-छत्तीसगढ़ के सभी जिलो के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कल सोमवार 05 से 12 अक्टूबर तक घर-घर भ्रमण कर कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे किया जाएगा, छत्तीसगढ़ शासन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा दिये गये निर्देशानुसार दिए गए है । महासमुंद जिले में भी कोरोना वायरस संक्रमण की चैन को तोड़ने के लिए कल सोमवार से 12 तारीख़ तक कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभिया चलेगा । कलेक्टर श्री कार्तिकेया गोयल ने कहा कि यह अभियान में स्थानीय नागरिकों का सहयोग बेहद जरूरी है। हमें तेजी से बढ़ रही कोविड-19 की वैश्विक महामारी से समाज, अपने आपको और अपने परिजनो को सुरक्षित रखने में कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान में हम सबकी भूमिका अहम हो सकती है । इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना होगा ।

कलेक्टर ने कहा कि इस अभियान में सोमवार 05 अक्टूबर से दिनांक 12 अक्टूबर 2020 के दौरान घर-घर भ्रमण कर ”सघन सामुदायिक सर्वे” कोविड-19 के लक्षण वाले मरीजों की पहचान की जाएगी। हरेक परिवार को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से क्षेत्र की मितानिन दीदियाँ,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका, बहुउद्देशीय कार्यकर्ता बहनो और सी.एच.ओ. सहित पंचायत एवं ग्रामीण/नगरीय विकास विभाग के प्रशिक्षित मैदानी अमले को पर्याप्त संसाधन उपलब्ध करा कर शत-प्रतिशित लक्ष्य पूर्ण करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कलेक्टर श्री गोयल ने कहा कि जिनके घर/परिवार में सर्दी, खांसी, बुखार जैसे लक्षण वाले परिजन हों वे सर्वे के दौरान सर्वेकर्ता अमले को इसकी जानकारी अवश्य प्रदान करें। जिससे कि उन्हें निशुल्क कोविड जांच एवं उपचार की बेहतर से बेहतर सेवा सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डाॅ. रवि मित्तल ने अपने चिकित्सकीय अनुभव के तौर पर कहा कि कोविड-19 महामारी क्रम में आमतौर पर लोगांे के मन में आने वाले सवाल जैसे जांच कराना जरूरी है क्या या पॉज़िटिव आ गए तो हमारा और परिवार का क्या होगा, उपचार मिलेगा या नहीं, कहीं संचय किया गया सारा धन समाप्त न हो जाए वाली भ्रांतियों को दूर करते हुए संक्रमण के प्रकरणों में इजाफा हुआ है, सम्भावना है कि वर्तमान में कुछ लोगों की लापरवाही -कोविड के नियमो का पालन में कोताही बरतने पर इसके बढ़ने की संभावना हो सकती है।

ऐसे में उन्होंने स्थानीय निवासियों से अनुरोध किया है कि कोविड-19 की महामारी को बिलकुल भी हल्के में न लें, जानकारी छिपाने व उपचार न कराने की स्थिति में रोग के बढ़ जाने पर यह मरीज के लिए अधिक नुकसानदेह साबित हो सकता है। उन्होंने कहा आपके घरों में ख़ासकर ग्रामीण क्षेत्रों में सर्वे करने आने वाले मैदानी अमले को भरपूर सहयोग प्रदान करें। कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान के बारे में बताते हुए वे कहते हैं कि यह अभियान इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि ऐसे नागरिक जो वाहन का न होना या पुरानी बीमारी से पीड़ित होना, परिजनों पर आश्रित बुजुर्ग व्यक्ति जैसे निजी कारणों से संक्रमण संबंधित जांच या स्वास्थ्य लाभ लेने के लिए नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र या सरकारी चिकित्सालयों तक नहीं आ पा रहे हैं। इसमें उन्हें भी घर पहुंच चिकित्सकीय सेवा-सुविधाएं मिल सकेंगी।

ऐसे में, उन्होंने बच्चों, बुजुर्गों, पहले से ही पुराने रोगों से पीड़ित मरीजों सहित कोविड-19 से संबंधित लक्षणों या लक्षणों की सम्भावना वाले मरीजों को सर्वे में सही-सही जानकारी देकर इस अभियान का लाभ लेने का निवेदन किया है।

प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. आर.के. परदल ने भी इस अभियान की विशेषता बताते हुए कहा कि कोविड-19 से बचाव और रोकथाम दोनों के लिए यह एक पूर्ण सर्वेक्षण अभियान है। सर्वे उपरांत, ऐसे सम्भावित मरीज जिन्हंें संक्रमण होने की सम्भावना होगी उनकी निशुल्क जांच की जाएगी। वही, धनात्मक आने की स्थिति में उनकी उम्र और शारीरिक क्षमता एवं उनके स्वास्थ्य संबंधी अद्यतन स्थिति के अनुसार उन्हें कोविड केयर सेन्टर्स, डेडिकेटेड कोविड अस्पताल या होम आइसोलेशन में रह कर स्वास्थ्य लाभ लेने की सेवा-सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक दिन की जानकारी मिनट-टू-मिनट अपडेट की जाती है और संबंधित मरीज़ की निजता का पूरा ध्यान रखा जाता है। जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए इस अभियान को सर्वोच्च प्राथमिकता दिया जाना बहुत जरूरी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.