छत्तीसगढ़ को मिले 6 युवा IAS अफसर, इनमें से अधिकतर इंजीनियरिंग की पृष्ठभूमि वाले

केंद्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग ने आज UPSC 2019 में चयनित IAS अफसरों को कैडर आवंटित कर दिया। कैडर आवंटन से छत्तीसगढ़ को 6 अफसर मिले हैं। इनमें से छत्तीसगढ़ का कोई अफसर नहीं है। छत्तीसगढ़ आ रहे अफसरों में से अधिकतर प्रशिक्षित इंजीनियर हैं।

जिन अफसरों को छत्तीसगढ़ आना है उसमें झारखंड के अभिषेक कुमार और प्रतीक जैन, ओडिशा के कुमार विश्वरंजन, उत्तर प्रदेश की श्वेता सुमन, दिल्ली की सुरुचि सिंह और महाराष्ट्र के हेमंत रमेश नंदनवार का नाम शामिल है।

छत्तीसगढ़ कैडर पाने वाले झारखंड के अभिषेक कुमार को UPSC 2019 में 73वीं रैक मिली थी। झारखंड के रामगढ़ जिले के भुरकुंडा निवासी अभिषेक के पिता वहीं कोलियरी में इंजीनियर रहे हैं। अभिषेक कुमार ने भी IIT खड़गपुर से मेकेनिकल इंजीनियरिंग किया है। 2017 में वे भारतीय राजस्व सेवा के लिए चुने गए थे।

उत्तर प्रदेश के झांसी की श्वेता सुमन ने UPSC 2019 में 413वीं रैंक हासिल की थी। उनके माता-पिता झांसी स्थित भारतीय चारागाह अनुसंधान संस्थान में वरिष्ठ वैज्ञानिक रहे हैं। श्वेता ने भी काशी हिंदू विश्वविद्यालय से एमटेक किया है। इससे पहले वे एक निजी कंपनी के साथ रिसर्च कर रही थीं।

ओडिशा में भुवनेश्वर के कुमार विश्वरंजन की 182वीं रैक हैं। वे IIT गुवाहाटी से पासआउट हैं। विश्वरंजन के पिता की भुवनेश्वर में एक छोटी से कपड़े की दुकान है। दाे साल पहले भी उन्होंने UPSC क्रेक किया था। उन्हें इंडियन रेलवे एकाउंट सर्विस मिला था।

महाराष्ट्र के भंंडारा निवासी हेमंत रमेश नंदनवार की 882वीं रैंक है। उनका परिवार भी कपडों का कारोबारी है। काफी मेधावी रहे नंदनवार पहले भी भारतीय वन सेवा के लिए चुने जा चुके हैं। वहीं दिल्ली की सुरुचि सिंह नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी बेंगलुरु से स्नातक हैं।

छत्तीसगढ़ में अभी 150 IAS अफसर हैं। इनमें से 1987 बैच के दो अफसर सबसे वरिष्ठ हैं। मुख्य सचिव अमिताभ जैन 1989 बैच के अफसर हैं। सबसे कनिष्ठ पांच अफसर 2019 बैच में मिले थेे। नये आ रहे अफसरों को 2020 बैच मिलेगा। इनके आने से पहले DOPT ने राज्य सेवा के 7 अफसरों को IAS अवार्ड किया है। अब 6 डाइरेक्ट IAS के आ जाने से छत्तीसगढ़ कैडर के अफसरों की संख्या 163 हो जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.