छत्तीसगढ़; ग्राम पंचायत कलेन्डा (सिंघोड़ा) मनरेगा कार्य में भ्रष्टाचार

भुपेश मांझी-सरायपाली ब्लाक के अंर्तगत आने वाले ग्राम पंचायत कलेन्डा (सिंघोड़ा) मनरेगा कार्य में भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है। आरोप है कि रोजगार सचिव सुदाम साव अपने मनमानी ढंग से अपने निजी मनरेगा हितग्राहियों के नाम पर फर्जी मस्टर रोल भर के अपने निजी विकास कर रहे हैं ग्रामीणों के द्वारा आरोप लगाया गया है कि रोजगार सचिव सुदाम साव पिछले कई वर्षों से रोजगार सचिव के पद पर पदस्थ हैं और हमेशा अपने निजी हितग्राहियों के नाम पर फर्जी मस्टररोल भरके हितग्राहियों से मनरेगा की रकम आधा-आधा वसूली कर रहे हैं और जब भी किसी ग्रामीणों के द्वारा इसका विरोध किया जाता है तो रोजगार सचिव द्वारा उसे डरा धमका कर चुप करा दिया जाता है पिछले वर्ष 2019 20 मे जब जोगीदादर में नया तालाब गहरीकरण का काम कराया जा रहा था तब भी वे अपने निजी मनरेगा हितग्राहियों के नाम फर्जी मस्टर रोल भर रहे थे इसकी जानकारी स्थानीय पत्रकार नृपनिधी पांडे प्राप्त हुआ तो पत्रकार ने कार्य स्थल पहुंच कर रोजगार सचिव को इस विषय पर जानकारी मांगी पर रोजगार सचिव द्वारा किसी भी प्रकार का जानकारी नहीं दिया गया और पत्रकार से कहा कि आपको जो उखाड़ना है उखाड़ लो ऐसे कर कर पत्रकार को धमकी भी दिया गया एवं आरोप है कि पिछले कुछ दिन पूर्व मनरेगा के तहत सड़क में मुरूम बिछाने का काम मनरेगा हितग्राहियों द्वारा किया जाना था और कार्यस्थल पर 20 हितग्राही पर पहुंचे थे लेकिन रोजगार सचिव द्वारा हितग्राहियों को कार्यस्थल से घर भगा दिया गया और कहा गया कि कार्य ट्रैक्टर और जेसीबी से कराया जाएगा कुछ ग्रामीणों द्वारा इस विषय को जनपद सीईओ एवं जिला पंचायत सीईओ जिला कलेक्टर एवं पंचायत मंत्री टीएस सिंह देव के पास इसकी शिकायत करने की बात कही गई है अब देखना होगा कि प्रशासन ऐसे भ्रष्टाचार रोजगार सचिव पर क्या ठोस कार्यवाही करती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.