बड़ी खबर:स्वयं को डॉक्टर बताकर की लाखों की ठगी, रायपुर पुलिस ने अंतर्राज्यीय आरोपी को किया गिरफ्तार

रायपुर- प्रार्थिया शीतला सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह वर्ष 2011 मे उच्च श्रेणी शिक्षका से सेवानिवृति हुई है। करीबन 12-13 वर्ष से आर्थराटिस बीमारी की प्राब्लम है जिसका वह ईलाज करा रही है जो आज तक ठीक नही हुआ है प्रार्थिया के दो बच्चे एक बेटा कर्नल अजित सिंह जो वर्तमान मे सेना मे पंजाब मे पदस्थ है एवं एक बेटी डां. नीतू ठाकुर जो अपने परिवार के साथ नासिक महाराष्ट्र मे निवासरत है। प्रार्थिया का बेटा अजित सिंह अपनी पत्नी के देख भाल के लिये एक कर्मचारी महेन्द्र सिंह राठौर को भेजा है जो इन लोगो के साथ ही रहता है।

प्रार्थिया के पति श्री एस.वाय. सिंह उम्र 81 वर्ष जो कि उम्र दराज एवं शुगर की बीमारी से पीड़ित होने से दवाई एवं अन्य घरेलु सामान के लिए बाहर आना जाना करती है । दिनांक 09.12.2020 को महेन्द्र सिंह राठौर के साथ दवाई लेने के लिए अनूप मेडिकल स्टोर्स कोतवाली थाना के पास गई थी एवं दवाई खरीद रही थी महेन्द्र राठौर पास ही खडा था जब दवाई खरीदकर वापस मुडी तो देखी महेन्द्र राठौर एक व्यक्ति से बात कर रहा था तो वह महेन्द्र से पूछी ये कौन है तो महेन्द्र बोला कि कुछ नही मां जी वह पूछ रहा है आप लोग मेडिकल क्यो आये हो मां जी को कुछ तकलीफ है क्या तब वह उक्त व्यक्ति से बात की और उसका नाम पता पूछी तो वह अपना नाम राहुल अग्रवाल सेन्ट्रल बैंक के पास कोटा का निवासी होना बताया वह उसे अपने घुटने की बीमारी के बारे मे बताया तो वह घुटने के बीमारी के ईलाज करने वाले एक डां. रहमान निवासी मोमिनपुरा पुलिस चैकी नागपुर है जो कि घुटने की बीमारी का ईलाज करता है वह अपनी मां के घुटने का बीमारी का ईलाज करवाया है जो अब पूर्ण रूप से स्वस्थ हो गई है आप लोग यदि ईलाज कराना चाहो तो मै डां. रहमान को रायपुर बुलवा सकता है। प्रार्थिया राहुल अग्रवाल के बातो मे विश्वास करके महेन्द्र को मोबाईल नंबर 9521378014 को देने के लिये बोली इसके बाद वे लोग महेन्द्र के घर वापस आ गये। दिनांक 10.12.2020 को शाम लगभग 7 से 8 बजे के मध्य एक मोबाईल नंबर 9527828528 से महेन्द्र के मोबाईल नंबर पर फोन आया महेन्द्र जब बात किया तो उक्त मोबाईल नंबर का धारक अपना नाम डां. रहमान निवासी मोमिनपुरा नागपुर को होना बताया तब महेन्द्र ने प्रार्थिया को बात करने के लिये फोन दिया तब वह डां. रहमान से बात की तब उसने बताया कि उसे इन लोगो का मोबाईल नंबर राहुल अग्रवाल ने दिया है आपको घुटने की बीमारी होना बताया है। वह इस बीमारी का ईलाज करता है। वह अभी रायपुर मे ईलाज करने लिये आया हुआ है। यदि वे ईलाज कराना चाहते है तो वह कल आकर ईलाज कर सकता है।

चुंकि वह कई जगह से घुटने का ईलाज कराकर थक चुंकि थी इसलिए वह डां. रहमान के बातो मे आकर ईलाज कराने के लिये तैयार हो गई और रहमान को दूसरे दिन घर आने के लिये बोली दिनांक 11.12.2020 को सुबह लगभग 8 बजे डां. रहमान कोटा पहुचकर महेन्द्र के मोबाईल नंबर मे काल किया तब महेन्द्र डां. रहमान को हमारे घर लेकर आया डां. रहमान उनके दोनो घुटने को देखकर बोला की वह इस बीमारी को ठीक कर सकता हूं परन्तु उसका फीस ज्यादा है एक बार पस निकालने का 2200 रू. लगेंगे वह बीमारी से परेशान था इस लिये वह डां. रहमान को बोली की आप ठीक कर दीजिये वह पैसे देने के लिये तैयार है। तब डां. रहमान मेरे दोनो घुटने मे एक चिलम नूमा पाईप लगाकर अपने मुह के खिचकर पस निकाला जिसे देखकर वह दंग रह गई उस समय घर में पति एस. वाय. सिंह , महेन्द्र राठौर , नौकरानी नीरा भी उपस्थित थे।

डां. रहमान यह प्रकिृया कई बार किया अंत मे खून जैसे तरल पदार्थ निकलने लगे जिसे देख डां. रहमान बोला कि पूरा पस निकल गया है । अब आपको जीवन भर घुटने से संबंधित कोई तकलीफ नही होगी डां. रहमान मुझे पुरे ईलाज का फीट 2 लाख 45 हजार रूपये बताया वह फीस कम करने के लिये बोली तो 2 लाख 20 हजार रूपये लगेगा बोला और फीस को नगद मे मांग किया तब वह अपने चैबे कालोनी स्थित आईसीआईसीआई बैंक खाता से 2 लाख रूपये एवं एटीएम से 20 हजार रूपये नगद आहरण कर डां. रहमान को दी डां. रहमान उसे दवाईया भी लिखकर दिया था जिसे वह श्री निवास आयुर्वेदिक जडी-बुटी दुकान कृष्णा काम्प्लेक्स कचहरी चैक से लगभग 75 हजार रूपये की दवाई खरीदी थी।

उक्त दवाईयो का सेवन करती रही किन्तु किसी प्रकार का राहत नही मिलने से वह डां. रहमान को मोबाईल से संपर्क कर बात कि तो वह बोला कि अभी मे नागपुर मे हूं रायपुर आकर वह दूसरी दवाई देगा कहा परन्तु वह सप्ताह 10 दिन बाद भी रायपुर नही आने से वह पुनः डां. रहमान के मोबाईल नंबर से फोन कि तो वह फोन नही उठाया वह लगातार फोन करती रही तो वह फोन ब्लाक कर दिया तब वह राहुल अग्रवाल के मोबाईल नंबर से संपर्क कि तो राहुल अग्रवाल का मोबाईल नंबर भी बंद मिला इस प्रकार डां. रहमान मोबाईल नंबर 9527828528 एवं राहुल अग्रवाल 9890066817 के धारको द्वारा बीमारी का ईलाज करने के नाम पर धोखधझडी कर लगभग 3 लाख रूपये का ठगी किये है जिस पर थाना सरस्वती नगर में अपराध क्रमांक 17/2021 धारा 420,34 भादवि. पंजीबद्ध किया गया है।

ईलाज करने के नाम पर स्वयं को डाॅक्टर बताते हुए लाखों रूपये की ठगी करने के प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए उमनि एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर श्री लखन पटले, अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री तारकेश्वर पटेल, अति. पुलिस अधीक्षक अपराध श्री अभिषेक माहेष्वरी नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौक अंकिता शर्मा, सायबर प्रभारी श्री रमाकांत साहू एवं थाना प्रभारी सरस्वती नगर श्री गौतम गावड़े को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में सायबर सेल एवं थाना सरस्वती नगर की एक विषेष टीम का गठन कर अज्ञात आरोपी की पतासाजी प्रारंभ की गई। टीम द्वारा घटना के संबंध में विस्तृत पूछताछ करते हुए आरोपी के हुलिये के संबंध में भी पूछताछ किया गया। अज्ञात आरोपी एवं प्रार्थिया जिस जिस स्थान पर गये थे उन जगहों का सीसीटीव्ही फूटेज को खंगालने के साथ ही अज्ञात आरोपी के संबंध में तकनीकी विष्लेषण कर आरोपी को चिन्हांकित करने के प्रयास किये जा रहे थें।

चूकि तरीका वारदात के आधार पर घटना को किसी बाहरी गिरोह द्वारा घटित करना प्रतीत हो रहा था। इसी दौरान टीम को अज्ञात आरोपी के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी एवं साक्ष्य प्राप्त हुए जिसके आधार पर आरोपी की उपस्थिति महाराष्ट्र के अकोला में होना पाया गया जिस पर टीम को महाराष्ट्र के अकोला रवाना किया गया। टीम द्वारा अकोला महाराष्ट्र पहुंचकर लगातार एक सप्ताह कैम्प करते हुए अज्ञात आरोपी की पतासाजी करते हुए अंततः उस्मान अली को गिरफ्तार करने में सफलता मिली। प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर कड़ाई से पूछताद करने पर आरोपी द्वारा उक्त घटना को कारित करना स्वीकार किया गया। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह मूलतः राजस्थान के बुंदी का निवासी है। जो घटना के कुछ दिनों पूर्व रायपुर के बेरला रोड किनारे अपने परिवार के साथ तम्बू बनाकर रहना एवं रायपुर में घूम-घूमकर जड़ी बूटी बेचना बताया गया।

इसी दौरान आरोपी की मुलाकात प्रार्थिया से हुई थी जिस पर आरोपी प्रार्थिया को अपने झांसे में लेकर अपना षिकार बनाया था जिससे वह लाखो रूपये लेकर फरार हो गया था। आरोपी से थाना आमानाका क्षेत्र में भी इसी तरह की ठगी की घटना के संबंध में पूछताछ की जा रही है। आरोपी के निषानदेही पर उसके कब्जे से 1,90,000/- रू. बरामद किया गया। आरोपी को गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही किया गया।

गिरफ्तार आरोपीः-

  1. उस्मान अली पिता मुबारिक अली उम्र 46 वर्ष निवासी खेल मैदान के पीछे बुंदी
    राजस्थान।

Leave A Reply

Your email address will not be published.