बलौदाबाजार; 42 दिनों में कोरोना को मात देकर स्वस्थ घर लौटी 72 वर्षीय नोनी बाई

सतीश नेताम/बलौदाबाजार-कहते है जब किसी को जीने की इच्छा हो तो मृत्यु भी उनका कुछ बिगाड़ नही सकता है। शायद यह आज सच साबित हो रहा है। जीने की प्रबल इच्छा एवं तकलीफों से लड़ने के जुनून ही 72 वर्षीय नोनी बाई के लिए एक नया वरदान साबित हो गया है। सही मायनों में नोनी बाई के लिए आज जिजीविषा शब्द का प्रयोग करना उचित होगा।

जिले के बिलाईगढ़ विकासखण्ड के अंतर्गत ग्राम सरसींवा निवासी 72 वर्षीय नोनी बाई कोविड के लक्षण दिखने पर उन्होंने अपना एंटीजन टेस्ट करवाया जिसमें वह पॉजिटिव आया। एंटीजन टेस्ट के तुरंत बाद उन्हें खम्हरिया कोविड सेंटर लाया गया। उनके स्वास्थ्य में सुधार नही दिखने पर उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट के साथ दिनांक 22 अक्टूबर को जिला कोविड अस्पताल बलौदाबाजार में भर्ती किया गया। इस दौरान नोनी बाई का 84 प्रतिशत आक्सीजन लेवल एवं सांस लेने में तकलीफ के साथ उनका इलाज प्रारंभ किया गया। इस दौरान उन्हें कई दफा ट्यूब के माध्यम से खाना भी दिया गया। चूँकि वह स्वयं खाने में असमर्थ एवं कमजोर थी।जिला कोविड अस्पताल के चिकित्सकों तथा पैरामेडिकल स्टाफ के अथक प्रयास से 42 दिनों बाद कल दिनांक 4 दिसंबर को पूर्ण रूप से स्वस्थ कर नोनी बाई को छुट्टी दी गई है। जिला कोविड हॉस्पिटल के इंचार्ज डॉ शैलेन्द्र साहू ने बताया की नोनी बाई बेहद जूनूनी महिला है। वह हमेशा जीने को लेकर सकारात्मक रहती थी। इलाज के दौरान वह हमारे द्वारा बताए गए सभी निर्देशो का पालन करती थी।

नोनी बाई ने छुट्टी होने के बाद घर जानें के दौरान बेहद भावुक होकर डॉक्टरों से कहा की आप सभी लोग मेरी सेवा एक माँ की तरह किये हो मुझे यहां जरा भी हॉस्पिटल जैसा अनुभव नही हुआ मुझे ऐसा लगा जैसे मैं अपने घर मे ही हूं। मुझें यहाँ जरा भी तकलीफ नही हुआ। उन्होंने सभी जिलावासियों सन्देश देतें हुए कहा की ये कोरोना बहुत खतरनाक है। आप सभी मास्क का सतत उपयोग करते रहें।और समय समय पर कोरोना का भी टेस्ट कराते रहें।

जिला कोविड हॉस्पिटल की एक और उपलब्धि जिला मुख्यालय में स्थित कोविड हॉस्पिटल राज्य के चुनिंदा प्रमुख हॉस्पिटल में शामिल है। यहाँ पूर्व में अन्य गंभीर बीमारियों से संक्रमित मरीजों जैसे कैंसर किडनी आदि रोगों से सम्बंधित कोविड मरीजों का भी स्वस्थ उपचार किया गया है। इसके साथ ही कोविड से संक्रमित अनेक महिलाओं का भी डॉक्टरों के कुशल टीम द्वारा बड़ी संख्या में सुरक्षित प्रसव कराया जा चुका है। जो जिले के लिए एक गर्व की बात है। हॉस्पिटल की गुणवत्ता एवं व्यवस्था को लेकर कलेक्टर सुनील कुमार जैन के द्वारा सतत निगरानी रखी जाती है। उन्होंने स्वस्थ सुविधा पूर्वक इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी सँयुक्त कलेक्टर इंदिरा देवहारी एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ खेमराज सोनवानी सहित स्वास्थ्य विभाग के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को शुभकामनाएं दिए है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.