अभिषेक ने नीट परीक्षा में 849 रैंक हासिल कर बसना और जिला नाम देश में रोशन किया

.नीट परीक्षा में 676 अंको के साथ 99.93 परसेंटाइल अर्जित कर आल इंडिया नीट देशभर में 849 रैंक हासिल कर

.अभिषेक हृदय शल्य चिकित्सक बनकर अपने क्षेत्र की लोगों की सेवा करना चाहते हैं

भूपेश मांझी/बसना-बचपन से ही मम्मी पापा ने मुझे डॉक्टर बनने के लिए प्रेरित किया और सदैव मेरे साथ खड़े रहे। इसी प्रेरणा से डॉक्टर बनने का जुनून पैदा हुआ। अपने भीतर आत्मविश्वास बनाए रखते हुए अपनी क्षमता पर भरोसा रखा और सही रणनीति से पूरी शिद्दत से कड़ी मेहनत की। बसना नगर के पदमपुर रोड स्थित नवल मेडिकल प्रतिष्ठान नवल अग्रवाल के सुपुत्र अभिषेक अग्रवाल ने भारत के चिकित्सा-स्नातक के पाठ्यक्रमों एमबीबीएस में नीट राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा में 676 अंको के साथ 99.93 परसेंटाइल अर्जित कर आल इंडिया नीट देशभर में 849 रैंक हासिल कर बसना नगर और महासमुंद जिला का नाम पूरे देश रोशन किया हैं।

अभिषेक अग्रवाल ने कोटा एलन करियर इंस्टीट्यूट में नीट की कोचिंग ली जहां परिवार वालो के सपने को पूरा करने और डॉक्टर बनने की जुनून से हमेशा प्रतिदिन 12 से 15 घंटे पढ़ाई कर कड़ी मेहनत से कोटा एलन करियर इंस्टीट्यूट में हमेशा टेस्ट परीक्षाओं में टॉप नम्बर लाने वाले विद्यार्थियों स्पेशल रैंकर ग्रुप शामिल रहे।

इंस्टीट्यूट में टेस्ट और कम्पीटिशन परीक्षा में 17 सिल्वर मैडल प्राप्त किया। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लॉक डाऊन के कारण वापस बसना घर लौटना पड़ा। अभिषेक घर में प्रतिदिन कोटा एलन करियर के शिक्षकों से फोन से मार्गदर्शन लेते हुये प्रतिदिन 12 से 15 घंटे की पढ़ाई की जिसमें एनसीआरटीसी के 150 से प्रश्नों पत्रों को हल किया। पढ़ाई के दौरान उसके दादाजी शंकरलाल अग्रवाल माताजी राधा अग्रवाल बडी बहन अंजली अग्रवाल ने निरन्तर डॉक्टर बनने प्रोत्साहित करते हुए आत्मविश्वास बढ़ाया। अभिषेक शुरू से मेधावी छात्र रहे 10वीं सेंट स्टीफेन जगदीशपुर स्कूल से बोर्ड परीक्षा में 94.2 प्रतिशत और 12वीं सीपीडब्लूएस बिलासकुमार स्कूल से बोर्ड परीक्षा में 93.4 प्रतिशत अंक प्राप्त किया हैं। अभिषेक अग्रवाल ने अपनी उपलब्धि का श्रेय अपने माता-पिता जो हमेशा डॉक्टर बनने मोटिवेट करते हुये मेरे अंदर जुनून पैदा किये।

पढ़ाई का तरीका, समय पर हर चीज को पूरा करने तैयारी की हर छोटी बड़ी बातों से मुझे अवगत कराया साथ ही परिवार, गुरुजनों बसना नगर के सभी लोगों को सफलता का श्रेय दिया। और बताया कि मेडिकल की अपनी पढ़ाई खत्म करने के बाद हृदय शल्य चिकित्सक कार्डियेक सर्जन बनकर अपने क्षेत्र के लोगों की सेवा करना चाहता हूं। अभिषेक की इस सफलता से दादाजी शंकर अग्रवाल, दादी मां लक्ष्मीदेवी अग्रवाल पिता नवल अग्रवाल माता राधा अग्रवाल, बड़ी बहन अंजली भाई स्वातिक अग्रवाल बहुत खुश है। जिससे घर मे त्यौहार जैसा मौहोल हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.